मुंबई मैं कांग्रेस इकाई के अध्यक्ष संजय निरुपम ने राज्य सरकार पर चाय घोटाला का आरोप लगाते हुए कहा कि 2015-16 से 2017 तक मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) में चाय पर खर्च किए गए पैसे में 577 प्रतिशत की बढ़ोतरी हो गयी हैं। सीएमओ ने आरोपों को पूरी तरह झूठा बताया हैं।


गुरुवार को दिए गए एक बयान में, सीएमओ ने स्पष्ट किया कि " केवल चाय पर खर्च नहीं किया गया था, इसमें और भी चीजे शामिल हैं। इस लागत में कैबिनेट के दौरान चाय, स्नैक्स और दोपहर के भोजन पर खर्च किए गए धन शामिल हैं, जिसमें राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय व्यापार प्रतिनिधिमंडलों और अन्य सरकारों के प्रतिनिधियों सहित सीएमओ के मेहमान पर प्रशासनिक बैठकें शामिल हैं।


लागत में गुलदस्ते भी शामिल हैं, और सीएमओ द्वारा विभिन्न आधिकारिक कार्यक्रमों और समारोहों में भेंट की गई वस्तुओं भी।


"3.4 करोड़ रुपये न केवल राज्य सरकार के मुख्यालय पर खर्च किए जाते हैं, लेकिन इसमें मुख्यमंत्री के निवास , सह्याद्री सरकारी गेस्ट हाउस, रामगिरी निवास, नागपुर में खर्च किए गए धन भी शामिल हैं। इसलिए, निष्कर्ष है कि चाय पर खर्च किए गए पैसे में 557 प्रतिशत की वृद्धि की बात गलत हैं।


इससे पहले, विभागीय समीक्षा बैठकों के दौरान, यह विशिष्ट विभाग नाश्ता और चाय प्रायोजित करता था , लेकिन अब यह सीएमओ के माध्यम से किया जाता है, एक अधिकारी ने बताया। आधिकारि ने कहा कि विदेशी अतिथियों और व्यापार प्रतिनिधियों के साथ पहले की बैठकें अक्सर तारांकित होटल में आयोजित की जाती हैं, लेकिन अब वे सह्याद्री गेस्ट हाउस में आयोजित की जा रही हैं।


सीएमओ ने इन चीजों के व्यय में वृद्धि को उचित ठहराया है जिसमें कहा गया है कि मुख्यमंत्री के दैनिक दर्शकों की संख्या में लगातार वृद्धि हुई है।


राकांपा अध्यक्ष शरद पवार ने गुरुवार को कहा, "मैं चार बार मुख्यमंत्री रहा हूं, लेकिन मैंने चाय पर इस तरह बेहिसाब पैसा खर्च नहीं किया हैं । यह पैसा किसानो के लिए इस्तेमाल किया जाता तोह ज्यादा लाभ होता। "


इसे एक "चाय घोटाला" कहते हुए, निरुपम ने दावा किया है कि आरटीआई मैं खुलासा हुआ हैं की चाय के पैसे मैं 577% की वृद्धि हुई हैं।


इन सभी वर्षों में, हरी चाय और पिली चाय के बारे में सुना है, लेकिन यह किसी तरह की सुनहरी चाय है," निरूपम ने कहा। उन्होंने पूछा, "जब किसान महाराष्ट्र में मर रहे हैं" तो मुख्यमंत्री चाय पर किस बात का खर्च कर रहे हैं ? ऐसी कोनसी चर्चा हो रही हैं जिस पर इतना खर्च हो रहा हैं ?